प्रदेश में जनगणना के लिए लगाए जाएंगे 30 हजार कर्मी और छह हजार सुपरवाइजर

देहरादून- शुक्रवार को सचिवालय में मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में जनगणना के कार्य के लिए गठित समन्वय समिति की बैठक हुई। इस बैठक में भारत के महारजिस्ट्रार एवं जनगणना आयुक्त विवेक जोशी ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से भाग लिया।
वहीँ बैठक में जनगणना निदेशक उत्तराखंड विम्मी सचदेवा रामन ने विस्तृत कार्ययोजना का प्रस्तुतीकरण किया। मुख्य सचिव ने शिक्षा निदेशक को जनगणना के कार्य के लिए आवश्यक कार्मिकों की तैनाती समय पर करने के निर्देश दिए।

उत्तराखंड में जनगणना 2021 का पहला चरण एक मई से शुरू हो जाएगा। इसमें मकान सूचीकरण, मकानों की गणना तथा राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर के कार्य होंगे। गणना के लिए 30 हजार कर्मी और छह हजार सुपरवाइजर लगाए जाएंगे। जनगणना में तैनात कार्मिकों की अप्रैल माह में ट्रेनिंग होगी। इस बैठक में कहा गया कि उत्तराखंड शासन के क्षेत्र परिसीमन से संबंधित नोटिफिकेशन की प्रति जनगणना निदेशालय को भी उपलब्ध कराई जाए।

जनगणना निदेशक ने बताया कि जनगणना के दौरान जनगणना कार्य के प्रबंधन एवं निगरानी के लिए सीएमएमएस पोर्टल विकसित किया गया है। वही डिजिटल इंडिया को बढ़ावा देने के लिए आंकड़ों का संकलन मोबाइल एप से भी किया जाएगा। निदेशक ने जनगणना कार्य के लिए प्रचार प्रसार का अनुरोध भी किया। मुख्य सचिव ने इस संबंध में सूचना एवं लोक संपर्क विभाग को निर्देश दिए।

बैठक में सचिव जनगणना रंजीत कुमार सिन्हा, सचिव सुशील कुमार, अपर सचिव एचसी सेमवाल सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *