मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने 17,332.07 लाख रूपये की लागत से बनने वाले कुल 2464 ईडब्ल्यूएस आवासीय भवनों का शिलान्यास किया

देहरादून  –  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने हरिद्वार में प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के अन्तर्गत किफायती आवास योजना घटक के तहत उत्तराखण्ड आवास एवं विकास परिषद द्वारा निजी सहभागिता से 17,332.07 लाख रूपये की लागत से बनने वाले कुल 2464 ईडब्ल्यूएस आवासीय भवनों का शिलान्यास किया। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री धामी ने एकल आवासीय मानचित्रों की स्वीकृति की प्रक्रिया हेतु बनाए गए एप का भी शुभारम्भ किया। मुख्यमंत्री ने रोशनाबाद-बिहारीगढ़ मार्ग के मध्य क्षतिग्रस्त हेत्तमपुर पुल का पुननिर्माण करने तथा इसकी निगरानी के लिये समिति गठित करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री श्री धामी ने कहा कि PmAwasYojna के अंतर्गत 2464 EWS आवासीय भवनों का शिलान्यास किया जाना, देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं राज्य सरकार की सफल नीति का परिणाम है। मार्च, 2024 तक समस्त आवासों का कार्य पूर्ण कर लाभार्थियों को कब्जा हस्तांतरित किया जायेगा।

मुख्यमंत्री ने DigitalIndia का जिक्र करते हुये कहा कि इसको ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार द्वारा 24 घण्टे में बिल्डिंग परमिट आवेदन सेवा,ऑनलाइन मानचित्र, डिजिटल हस्ताक्षरित मानचित्र आवेदक को मेल द्वारा प्राप्ति की सुविधा जैसी व्यवस्था से आवेदक को लाभान्वित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आज हमारा देश हर क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है। कोरोना काल में कोई परिवार भूखा न सोए इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में 80 करोड लोगों को मुफ्त में राशन देने का कार्य किया गया। उन्होंने कहा सरकार सरलीकरण, समाधान और निस्तारण के मूलमंत्र पर काम कर रही है। अधिकारियों को प्रत्येक दिन 10 से 12 बजे तक जनसमस्याओं के निस्तारण और सचिवालय में एक दिन ‘नो मीटिंग डे’ की व्यवस्था की गई है ताकि अधिकारी जनसमस्याओं को गंभीरता से सुनें। इस अवसर पर हरिद्वार सांसद डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक, खानपुर विधायक उमेश कुमार रूड़की विधायक प्रदीप बत्रा , भाजपा जिला अध्यक्ष डॉ0 जयपाल सिंह चौहान, पूर्व विधायक ज्वालापुर सुरेश राठौर सहित स्थानीय पदाधिकारी एवं अधिकारीगण मौजूद रहे।

About The lifeline Today

View all posts by The lifeline Today →

Leave a Reply

Your email address will not be published.