कोरोना वायरस जानिए इस महामारी के बारे मैं अहम तथ्य एवं जानकारी।

कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को डरा रखा है। जितना इस वायरसे का खौफ है उससे ज्यादा इसके बारे में फैला है रहस्य। यह वायरस क्या है, कैसे फैलता है और क्या—क्या नुकसान कर सकता है। हम इसे समझने की कोशिश करते

कोरोना वायरस क्या होता है?

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के अनुसार, कोरोना वाइरस सी-फूड से सम्बन्धित है और इसकी शुरुआत चीन के हुवेई प्रांत के वुहान शहर के एक सी-फूड बाजार से मानी जा रही है। कोरोना वायरस से जो लोग बीमार हो रहे हैं। दरअसल कोरोना वायरस एक समूह है जो शरीर को सीधा प्रभावित कर सकता है। यह वायरस जानवरों मैं जैसे ऊंट, बिल्ली, चमगादड़ सहित कई पशु पक्षियों में भी फैल रहा है।

इस वायरस के क्या लक्षण होते हैं?

कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति को सबसे पहले सांस लेने में दिक्कत, गले में दर्द, सर्दी, जुकाम, खांसी और बुखार हो सकता है । फिर यह बुखार निमोनिया का रूप ले लेता है और निमोनिया किडनी से जुड़ी कई तरह की दिक्कतों को उजागर कर सकता है। अंतत: अगर इलाज न पाए सही से तो इंसान को जान का खतरा भी हो सकता है।

इसका इलाज कैसे होता है?

फ़िलहाल डॉक्टर इसका इलाज ढूंढ़ने मैं असमर्थ हैं, कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिए कोई वैक्सीन नहीं बानी है न ही इसके लिए कोई विशेष उपचार संभव है, लेकिन इसके लक्षणों के आधार पर डॉक्टर्स इसके इलाज में दूसरी जरूरी दवाओं का प्रयोग करना ही सही मान रहे हैं। इसलिए डॉक्टरों का कहना है कि लोगों को वायरस के प्रति खुद सावधानी बरतनी होगी।

यह वायरस कैसे फैलता है?

WHO के अनुसार, कोरोना वायरस इंफेक्टेड सी-फूड खाने के अलावा इस वायरस परिवार के लोगों में एक से दूसरे को फैलने की भी सम्भावना है। यानी कि कि कोरोना वायरस बेहद नजदीकी संपर्क में रहने वाले दो इंसानों में एक से दूसरे में संक्रमित हो सकता है। कोरोना वायरस (Corona Virus) के अब तक लगभग 440 मामले सामने आ चुके हैं, जिसमें से सबसे ज्यादा मामले चीन में पाए गए है, जबकि थाईलैंड, जापान, साउथ कोरिया और यूएस में भी इसके मामले सामने आए हैं।

कोरोना वायरस से बचाव के तरीके

– ऐसा पैक्ड फूड या डिब्बा बंद फूड खाने से बचें जिसमें मीट या सी-फूड का इस्तेमाल किया गया हो। बेहतर होगा कि यात्रा के दौरान आप कुछ ड्राई और सेफ फूड अपने साथ कैरी करें। इनमें खाखरा, मीठी-नमकी भुजिया, सेव, वेज कूकीज जैसी चीजें शामिल हो सकती हैं।

– यात्रा के लिए निकलने से पहले पूरी नींद लें और खाली पेट किसी सफर के लिए ना निकलें। अगर यात्रा के दौरान आपको सर्दी, गले में दर्द, नाक बहना, खांसी जैसी समस्याएं होने लगें तो आप तुरंत क्रू मेंबर्स को इंफॉर्म करें।

कितना संक्रामक ?

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग द्वारा मानव को मानव संचरण की पुष्टि की गई है। 27 जनवरी तक, चीनी अधिकारियों ने 2,700 से अधिक मामलों और 56 मौतों को स्वीकार किया था। पिछले सप्ताह में, 13 प्रांतों, साथ ही साथ बीजिंग, शंघाई, चोंगकिंग और तिआनजिन की नगरपालिकाओं में पुष्टि किए गए संक्रमणों की संख्या तीन गुना से अधिक पाई गई है। हांगकांग, मकाऊ, जापान, नेपाल, सिंगापुर, दक्षिण कोरिया, ताइवान, थाईलैंड, अमेरिका और वियतनाम में भी इस वायरस की पुष्टि हुई है। वर्तमान में यूके में कोई भी पुष्टि नहीं हुई है, 70 से अधिक लोगों में वायरस के लिए परीक्षण किए गए हैं जो सभी नकारात्मक साबित होते हैं। यह सरकारी आंकड़े हैं। वास्तविक संख्या कहीं अधिक हो सकती है, क्योंकि हल्के लक्षणों वाले लोगों का पता नहीं चल सकता है। इम्पीरियल कॉलेज लंदन के डब्ल्यूएचओ विशेषज्ञों द्वारा मॉडलिंग से पता चलता है कि अनिश्चितता के साथ 30 हजार से दो लाख के बीच मार्जिन के साथ 10 लाख से अधिक मामले हो सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *